Manrega Yojana Kya hai | काम के प्रकार | मजदूरी वेतन दर। आवेदन प्रक्रिया – Manrega Yojana 2022 Updated

Manrega Yojana kya hai | मनरेगा योजना सम्पूर्ण जानकारी: नमस्कार दोस्तों, आज के समय भारत के अंतर्गत बेरोजगारी की समस्या सबसे बड़ी समस्या है। भारत देश के अंतर्गत करोड़ों लोग बेरोजगारी की समस्या का सामना कर रहे हैं। बेरोजगारी भारत देश के विकास के लिए भी एक काफी गंभीर समस्या है। इसी को मद्देनजर रखते हुए भारत सरकार ने मनरेगा योजना की शुरुआत की है। मनरेगा योजना का उद्देश्य भारत में अधिक से अधिक लोगों को रोजगार प्राप्त करवाना है।

मनरेगा योजना क्या है ( Manrega Yojana Kya hai), इस योजना के माध्यम से क्या-क्या लाभ मिलते हैं तथा आप इस मनरेगा योजना का लाभ किस प्रकार से ले सकते हैं, यह सभी जानकारी हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से विस्तार से देने वाले हैं।

Manrega Yojana Kya hai – मनरेगा योजना क्या है?

मनरेगा योजना की शुरुआत भारत सरकार के द्वारा बेरोजगार लोगों को रोजगार देने के लिए की गई है। इस योजना के माध्यम से भारत सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में 1 साल के अंतर्गत 100 दिन का रोजगार उपलब्ध करवाती है। मनरेगा योजना के अंतर्गत किसी भी व्यक्ति को प्रतिदिन 200 रुपए से लेकर 320 रुपए तक दिए जाते हैं, यह राशि अलग-अलग राज्यों के अंतर्गत अलग-अलग होती है।

इस योजना के माध्यम से भारत सरकार ग्रामीण क्षेत्र में होने वाले कुछ कार्यों में लोगों को रोजगार का अवसर प्रदान करती है। इस योजना के माध्यम से भारत सरकार कम से कम 100 दिन का रोजगार उपलब्ध करवाती है, इसके अलावा यदि किसी भी ग्रामीण क्षेत्र में अधिक काम होता है, तो इस रोजगार की अवधि को डेढ़ सौ दिन तक भी बढ़ाया जा सकता है।

मनरेगा योजना के अंतर्गत कौन कौन से कार्य आते हैं?

मनरेगा/नरेगा योजना की अंतर्गत आपको ग्रामीण क्षेत्र का कोई भी कार्य दिया जा सकता है, जिनमें कुछ मुख्य कार्यों की सूची निम्न है, आपको अधिकतर समय में यह सभी कार्य ही मिलते हैं :

  • ‌जल संरक्षण
  • ‌वृक्षारोपण
  • ‌बाढ़ नियंत्रण
  • ‌भूमि विकास
  • ‌आवास निर्माण
  • ‌लघु सिंचाई
  • ‌बागवानी ‌
  • ग्रामीण मार्ग निर्माण, आदि

मनरेगा योजना के लाभ

भारत सरकार के द्वारा चलाई गई मनरेगा योजना से निम्न लाभ होते हैं :-

  1. इस योजना के माध्यम से भारत सरकार के द्वारा हर साल ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को 100 दिन का रोजगार उपलब्ध करवाया जाता है, यदि किसी भी ग्रामीण क्षेत्र के अंतर्गत अधिक कार्य उपलब्ध होता है, तो इस रोजगार की अवधि 150 दिन तक भी बढ़ाया जा सकता है।
  2. मनरेगा योजना के माध्यम से बेरोजगारी की समस्या दूर करने में काफी मदद है, क्योंकि आज के समय इस योजना के माध्यम से करोड़ों लोगों को रोजगार मिल रहा है।
  3. इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में विकास की दर काफी तेजी से बढ़ रही है।
  4. मनरेगा योजना के अंतर्गत किसी भी व्यक्ति को उसके गांव तथा उसके आसपास के गांव का कार्य दिया जाता है, जिस कारण वे उस कार्य को अच्छी तरीके से करता है, तो ऐसे में गांव का विकास का भी अच्छा होता है।
  5. इस योजना के माध्यम से गरीब परिवारों तथा जिन परिवारों के पास कोई रोजगार उपलब्ध नहीं है, उनको आर्थिक सहायता मिलती है।

मनरेगा योजना के उद्देश्य

दोस्तों मनरेगा योजना के नियम उद्देश्य है

  1. इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र पर अधिक से अधिक लोगों को रोजगार का अवसर प्रदान करवाना है।
  2. बेरोजगारी की समस्या को दूर करना इस योजना का एक काफी बड़ा उद्देश्य है, जैसा कि आपको इसके बारे में तो पता ही होगा कि भारत के अंतर्गत बेरोजगारी की समस्या एक काफी बड़ी समस्या है, तो भारत सरकार इस योजना के माध्यम से इस समस्या को कुछ हद तक दूर करना चाहती है।
  3. इस योजना के माध्यम से भारत सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में विकास की दर को बढ़ाना चाहती है।

नरेगा जॉब कार्ड क्या है?

नरेगा जॉब कार्ड एक कार्ड होता है, जो किसी भी अन्य कार्य की तरह होता है। यह जॉब कार्ड आपकी एक पहचान होता है जिसके माध्यम से आप को रोजगार मिलता है तथा आपकी सभी जानकारी इस जॉब कार्ड के अंतर्गत होती है। यदि आपके पास नरेगा जॉब कार्ड होता है तो आपको इस योजना के माध्यम से सभी पैसे आपके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए जाते हैं, तथा आपके साथ कोई भी स्कैम होने का खतरा नहीं रहता है।

नरेगा जॉब कार्ड कैसे प्राप्त करें ?

यदि दोस्तो आप भी नरेगा जॉब कार्ड प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए अपनी ग्राम पंचायत में जाकर नरेगा जॉब कार्ड का फॉर्म प्राप्त करना है। उस फर्म के अंतर्गत आपको अपने कुछ बेसिक जानकारी देनी है तथा उसके साथ कुछ दस्तावेज को सबमिट करना है। यह सब करने के बाद आपको फॉर्म को ग्राम पंचायत के अंतर्गत जमा करवा देना है तथा आपको ग्राम पंचायत के द्वारा नरेगा जॉब कार्ड उपलब्ध करवा दिया जाएगा।

मनरेगा योजना से किसी राज्य में कितनी मजदूरी मिलती है ?

Manrega Yojana Kya hai | काम के प्रकार | मजदूरी वेतन दर। आवेदन प्रक्रिया - Manrega Yojana 2022 Updated

दोस्तों मनरेगा योजना के माध्यम से अलग-अलग राज्यों में प्रतिदिन अलग-अलग मजदूरी मिलती है, जिसके बारे में संपूर्ण जानकारी निम्न है:

राज्य मजदूरी (रुपए प्रतिदिन)
आंध्र प्रदेश 205
अरुणाचल प्रदेश 177
असम 189
बिहार 168
छत्तीसगढ़ 174
गोवा 254
गुजरात 194
हरियाणा 281
हिमाचल प्रदेश 184 (गैर अनुसूचित क्षेत्र)
हिमाचल प्रदेश 230 (अनुसूचित क्षेत्र)
जम्मू कश्मीर 186
झारखण्ड 168
कर्नाटक 249
केरल 271
महाराष्ट्र 203
मणिपुर 209
मेघालय 181
मिजोरम 194
नागालैंड 177
ओडिशा 182
पंजाब 240
राजस्थान 192
सिक्किम 177
मध्य प्रदेश 174
तमिलनाडु 224
तेलंगाना 205
त्रिपुरा 177
उत्तर प्रदेश 175
उत्तराखंड 175
पश्चिमी बंगाल 191
अंडमान और निकोबार 250 (अंडमान जिला)
अंडमान और निकोबार 264 (निकोबार जिला)
चंडीगढ़ 273
दादरा और नागर हवेली 220
दमन और दीव 197
लक्ष्यद्वीप 248
पंडूचेरी 224

 

आज आपने क्या सीखा

तो दोस्तों आज आपने इस पोस्ट के माध्यम से जाना कि मनरेगा योजना क्या है ( Manrega Yojana Kya hai), इसके अलावा हमने आपको इस पोस्ट के माध्यम से मनरेगा योजना से जुड़ी सभी जानकारियां दी है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी पसंद आई होगी, तथा आपको इस लेख के माध्यम से कुछ नया सीखने को मिला होगा। अगर आपको मनरेगा योजना 2022 से जुडी कोई भी समस्या है तो आप मनरेगा की आधिकारिक वेबसाइट से संपर्क करे या कमेंट में हमसे जरूर पूछे।

अगर आप सरकारी नौकरी, Govt Jobs, सरकारी योजना जैसी जानकारी चाहते है तो हमसे जरूर जुड़े।

Join Us :

Telegram – Click Here

Facebook – Click Here

Instagram –Click Here

FAQ

 

मनरेगा योजना क्या है?

यह भारत सरकार द्वारा चलाई गई एक योजना है, जिसके द्वारा ग्रामीण क्षेत्र पर बेरोजगार लोगों को रोजगार कार्ड से दिया जाता है।

मनरेगा में अधिकतम कितने दिन कार्य दिया जा सकता है?

मनरेगा/नरेगा योजना के अंतर्गत कम से कम 100 एवं अधिक से अधिक 365 दिन का काम मिल सकता है।

मनरेगा में मजदूर की मजदूरी कितनी है?

मनरेगा के अंतर्गत मजदूरी राज्य के हिसाब से होती है। जो कम से कम 200 एवं अधिक से अधिक 350 हो सकती है।

Leave a Comment